आज कितना बदल गया है इंसान...?

गणतंत्र को बचाना है तो भ्रष्ट मंत्रियों को जनयुद्ध के जरिये सरे आम फांसी देनी होगी......

सोमवार, 3 जनवरी 2011

इस गणतंत्र को आज आपके निड़र आवाज क़ी जरूरत है....अब चुप मत रहिये....आप भी बोलिए "भारत बोलेगा "के संग........

 
भ्रष्ट और कुकर्मी मंत्रियों तथा बड़े उद्योगपतियों से इस गणतंत्र को तथा समाज को बचाना है तो अब चुप मत रहिये....आप भी बोलिए "भारत बोलेगा "के संग.......डरिये नहीं भ्रष्टाचारी अगर आपके  नजर में प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति क़ी कुर्सी पर भी बैठा हो तो भी बोलिए.....आपका बोलना ही अब इस देश और समाज तथा आपको भी बचा सकता है......इस गणतंत्र को आज आपके निड़र आवाज क़ी जरूरत है....

पढ़िए इस लिंक पर....http://www.bharatbolega.com/archives/1741

6 टिप्‍पणियां:

  1. जनसेवा के नाम से जानी जाने वाली राजनीति अब एक कारोबार का रुप लेती जा रही है जो आम आदमी के हित्त में नही है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. साथ है. मैं भी बोलूंगा..

    सार्थक पहल

    उत्तर देंहटाएं
  3. jaikumar ji, aapne bilkul sahi kaha...ki hamen bolna chahiye....lekin aapki post padhkar mujhe ye lagta hai ki kisi aur ke baare me kuchh bhi kahne se pahle behtar hoga ki pahle main khud ko jaanch loon.....kahin main bhi to aisa koi kaam nahi kar rahi..phir main zarur aapke saath judna chahungi...dhanywaad

    उत्तर देंहटाएं